CCTV Full Form in Hindi – सी सी टी वी को हिंदी में क्या कहते हैं

नमस्कार दोस्तों आज हम एक नया विषय आपके लिए लेकर आये हैं जिसका शीर्षक है CCTV full Form, जी हाँ आप में से काफी लोगों को ये ज्ञान नहीं होगा की सी सी टी वी का पूरा नाम अर्थात इसका फुल फॉर्म क्या है। इस लेख में हम ये सब जानकारी आपके साथ बांटेगें जैसे की CCTV full Form In Hindi, CCTV कितने प्रकार के होते हैं, Wireless CCTV Camera इत्यादि।

CCTV क्या है ?

आपको कुछ बातें पता होंगी CCTV के बारे में की यह एक ऐसा कैमरा होता है जिसे की निगरानी करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जैसे की मुख्य द्वार, कार्यालय, किसी दुकान या अस्पताल आदि में।

जहाँ पर लोगों पर आसानी से निगरानी रखी जा सके या फिर जहाँ पर लोगों को निगरानी रखने की आवश्यकता होती है। CCTV Camera एक कंप्यूटर सर्वर से जुड़ा हुआ होता है।

यह अपने सामने होने वाली प्रत्येक हरकत को रिकार्ड करता है और यही रिकार्डिंग मैं सर्वर वाले कंप्यूटर को भेजता रहता है।

जो मुख्य कंप्यूटर होता है वह इसकी सभी रिकार्डिंग को अपनी हार्ड डिस्क में जमा यानि स्टोर कर लेता है। जब कभी इस रिकार्डिंग की हमें ज़रूरत होती है तो इसका इस्तेमाल किया जाता है।

CCTV Camera सिग्नल्स को सार्वजानिक रूप से वित्री नहीं करता है लेकिन सुरक्षा के उदेश्य से इसका उपयोग किया जाता है।

अब बात करते हैं CCTV full form in Hindi के बारे में ताकि अगर कोई आपसे पूछे की CCTV की Full Form यानि पूरा नाम क्या है तो आप उसे आसानी से इसका उत्तर दे सकें।

CCTV Full Form in Hindi

दोस्तों अंग्रेजी भाषा में CCTV का फुल फॉर्म होता है Closed Circuit Television, और हिंदी भाषा में इस पूरा नाम है बंद परिपथ दूरदर्शनCCTV = Closed Circuit Television.

CCTV वैसे तो Live चलता है पर अगर आपके Camera के सामने कोई घटना हुई है और आप वहां मौजूद नहीं हैं तो आप रिकार्डिंग में से वो सारी घटनाक्रम को दोबारा देख सकते हैं।

इसकी खास बात यह होती है की ये वीडियो और आडिओ दोनों को प्रसारित क्र सकता है। CCTV Camera में कम रौशनी की जो छवियां (Images) होती हैं उसे रिकार्ड करने के लिए इसमें दृष्टि क्षमता भी होती है।

क्या CCTV Camera Online Purchase करने चाहिए ?

जैसे हमने पुछा है की क्या हमें CCTV Camera Online खरीदना चाहिए, क्या हमें वो Amazon से, Flipkart से, Snapdeal से जहाँ पर रेट अच्छे मिल जाते हैं वहां से लेने चाहिए।

यह एक बहुत बड़ा सवाल है क्यूंकि जब हम बाजार से खरीदते हैं तो Camera का दाम कुछ और होता है और जब Online खरीदते हैं तो उस Camera का दाम काफी कम होता है।

तो क्या क्या फायदे हो सकते हैं अगर आप इसे ऑनलाइन खरीदें या फिर क्या क्या नुक्सान हो सकते हैं अगर आप इसे ऑनलाइन ना खरीदते हैं तो।

cctv security video camera in hindi
cctv full form in hindi

ऑनलाइन CCTV Camera खरीदने के फायदे

अब बात करते हैं की अगर हम ऑनलाइन Internet से कैमरा खरीदते हैं तो इसके क्या फायदे हैं।

सबसे पहले तो हमें कैमरे की मुख्य विशेषताएं पता चल जाती है और कैमरा देखने में केसा है इसका वज़न कितना है उसके बारे में जानकारी मिल जाती है।

दूसरा फायदा ये है की इसका रेट पता चल जाता है मतलब की वो क्या cost में ऑनलाइन बिक रहा है।

तीसरा फायदा हमें ये होता है की जब उत्पाद (कैमरा) पसंद आ जाता है तो उसे ऑनलाइन आर्डर करके हम घर बैठे बैठे उसे मंगवा सकते हैं। और कहीं जाने की ज़रूरत नहीं पड़ती।

ऑनलाइन CCTV Camera खरीदने के नुक्सान

आपने Camera को ऑनलाइन खरीदने के फायदे के बारे में तो जान लिया पर इसके कुछ नुक्सान भी हैं जिनको जानने के लिए थोड़ा संक्षेप में जाना होगा। संक्षेप में हम क्या जानेंगे की जब हम CCTV कैमरा लगवा रहे हैं तो वो कैमरा लगवाने का मुख्य कारण क्या है।

कारण आपको जानना बहुत ज़रूरी है। वो कारण कोई भी हो सकता है जैसे की क्या आपको सस्ता Camera लगवाना है या फिर अच्छा लगवाना है ?

अगर आपको सस्ता लगवाना है और आपको कुछ ऐसी स्थिति है की आपको लगवाना ही पड़ रहा है ज़बरदस्ती का। और आपको उससे कोई फर्क नहीं पड़ता की उस Camera के क्या फायदे (Benefits) हैं या क्या सर्विस मिलेगी।

इसलिए अगर आपको सिर्फ खाना पूर्ति के लिए ही कैमरा लगवाना है तो ऑनलाइन वाला विकल्प आपके लिए अच्छा रहेगा।

लेकिन अगर आपका कारण कुछ और है। मतलब आपको कुछ परेशानी है और आप उस परेशानी को दूर करने के लिए कैमरा लगवाना चाहते हैं, आप कैमरे से सम्बंधित अच्छी सर्विस लेना चाहते है तो आपको इसे खरीदने से पहले थोड़ा सोचना पड़ेगा।

ऑनलाइन ना खरीदने के मुख्य कारण ♦

क्यूंकि ऑनलाइन मार्किट बहुत ही अलग होता है वहां पर Products Quantity के हिसाब धड़ल्ले से बिकते हैं। क्यूंकि जब Quantity ज़यादा होती है तो Products का मूल्य कम हो जाता है और Products के मंगवाने के कंपनी से लाने के बहुत सारे Source होते हैं।

अब वो Source उन ऑनलाइन मार्किट के ऊपर निर्भर करता है क्यूंकि ऑनलाइन जाना ही जाता है सबसे सस्ता देने के लिए।

तो हमें यहाँ ये देखना है की जो हमारा Product है जो कैमरा आप ऑनलाइन मंगवा रहे हो उसके पीछे का कारण क्या है।

अब हम एक बात आपको और बताना चाहेंगे की आप ऑनलाइन प्रोडक्ट्स मंगवा सकते हैं लेकिन आपको किस तरह के प्रोडक्ट्स मंगवाने चाहिए की बाद में आपको कोई दिक्कत ना हो।

आप ऑनलाइन ऐसे प्रोडक्ट्स मंगवाएं जिसकी आपको सर्विस की ज़रूरत ना पड़े। लेकिन कुछ ऐसे प्रोडक्ट्स जिनके लिए Installation की ज़रूरत होती है समय समय पर मुररमत्त की ज़रूरत होती है

आप जिस भी शहर में रहते हैं वह आम तोर पर सभी बड़े बड़े brands के Service Center उपलभ्ध होते हैं। पर ऐसे Product का क्या करे जिसका कोई Service Center उपलभ्ध नहीं है। तो वहां पर आपको भरोसा करना पड़ेगा आपके System Integrator पर।

ये भी पढ़ें :-

System Integrator जो होता है यानि की जो आपके यहाँ जो Camera Installation करने वाला है वो सबसे पहले आपके यहाँ Visit करता है, वो जगह को अच्छी तरह से देखता है की कहाँ camera अच्छे से लग सकता है।

आपकी ज़रूरत को समझता है जो की ऑनलाइन मार्किट में मुमकिन नहीं है।

ऑनलाइन में आपको वो यह नहीं सुझाव देने वाले की आपको 1 Megapixel लेना चाहिए या 2 Megapixel लेना चाहिए, Bullet Camera लेना चाहिए या Dome Camera लेना चाहिए, कितने दिन की रिकॉर्डिंग हिसाब आपको क्या हिसाब रखना है, HD लेना है या एनालॉग लेना है इसके बारे में कोई भी जानकारी आपको नहीं दी जाती।

तो हमारा कहना ये है की जब भी आप Camera के बारे में बात करते हैं तो Online Market के बारे में और Offline Market में अगर दोनों में तुलना करेंगे तो दोनों में अंतर ज़रूर आएगा। क्यूंकि Online वाले को ना तो कोई सर्विस देनी है ना ही कुछ करना है।

दोस्तों इस लेख का मुख्य विषय तो CCTV Full Form है पर हम आपको CCTV से जुड़ी और भी जानकारियां देंगे तो कृपया लेख को पूरा पड़ें ताकि CCTV से जुड़ी हर छोटी से छोटी और बड़ी जानकारी आपको प्राप्त हो जाए।

एक Camera कितनी Storage लेता है ?

अभी मार्किट में बहुत सारी Technologies हैं बहुत सारे Megapixel वाले Camera हैं, बहुत सारे NVR और DVR आ गए हैं। तो वहां पर लोग थोड़े घबरा जाते हैं की हम जो camera install कर रहे हैं उसकी रिकॉर्डिंग कितने दिन में रुक जायेगी यानि की Storage भर जाएगी।

किसी भी Hard Drive की Storage का Calculation करने के लिए हमें कुछ चीज़ों को समझना बहुत ज़रूरी है। की ये जो Storage है इसके ऊपर कौन कौन से Factor काम कर रहे हैं।

Frame Rate क्या है जानें :-

चलिए एक एक करके उस फैक्टर को समझते हैं।

  1. सबसे पहला Factor आता है आपका DVR या NVR, ये जो DVR है वह किस Codec पर काम कर रहा है। मतलब उसका Compression कौन सा है H.264 या फिर H.265.
  2. दूसरा Factor ये है की आप जो camera इस्तेमाल कर रहे हैं वो Camera कितने Megapixel का है। वो 1 Megapixel है, 2 Megapixel है या 3 Megapixel है या फिर Analog है।
  3. तीसरा Factor है Frame Rate, दोस्तों जब भी आप Camera में Encode की सेटिंग करते हैं तो वहां पर एक विकल्प आता है की आपने कौन से Compression पर उस Camera से रिकॉर्डिंग कर रहे हैं।                                                                                  मतलब आप H.265 के Compression पर हैं या फिर 720 P के Compression पर हैं, उसके बाद जो दूसरा विकल्प आता है वो है Frame Rate का। 25 Frame Rate है 30 Frame Rate है इसमें By Default 25 Frame Rate सेट होता है।

तो Frame Rate यहाँ पर एक बहुत ही अहम् भूमिका अदा करता है की जब भी आप Camera की Storage को Calculate करते हैं। क्यूंकि आपको ये तो पता ही होगा की Frame Rate होती क्या है।

Frame Rate में एक सेकेंड के अंदर जब कैमरा करीबन 25 तस्वीरें बनाता है तो उसे 25 Frame Rate कहा जाता है।

मतलब की जब भी हम किसी वीडियो को Play करते हैं वो वीडियो नहीं होता वह तस्वीरों का समूह होता है। तो ये कुछ Factor हैं जो की हमारी वीडियो की Storage पर प्रभावी होते हैं।

CCTV Full Form in Hindi लेख कैसा लगा ?

दोस्तों आपके सुझावों का हमें इंतज़ार रहेगा, कृपया हमें अपने विचार हमारे साथ ज़रूर साँझा करें की आपको ये CCTV Full Form in Hindi का लेख कैसा लगा ? अगर इसमें कोई कमी है तो वो भी बताएं हम पूरी कोशिश करेंगे इसे ठीक करने की।

Leave a Comment