jackfruit benefits in hindi

जाने कटहल के गज़ब के फायदे Jackfruit Benefits In Hindi

अनुक्रम

Jackfruit Benefits In Hindi – आज हम आपको इस लेख में बताएँगे कटहल यानी जैकफ्रूट क्या होता है ? ये किस प्रान्त में पाया जाता है और कैसे इसको अपने भोजन में शामिल करके इसके लाभ ले सकते हैं।

जैकफ्रूट की सब्ज़ी का नाम लेते ही मुंह में पानी आ जाता है और साथ ही ये दुनिया का सबसे बड़ा फ़ल है।

इसका प्रयोग सब्ज़ी में ही नहीं आचार पकोड़े और कोफ्ते बनाने में भी किया जाता है। कटहल में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं।

कटहल की विस्तार से जानकारी इस लेख में दी गयी है जिसमें इसके फायदे और नुक्सान की पूर्ण रूप से चर्चा की गयी है। आईये जानते हैं कटहल क्या है।

कटहल (जैकफ्रूट) क्या होता है ? What is Kathal (Jackfruit) ?

आईये बात करते हैं जैकफ्रूट की जिसे Hindi Meaning Mein Kathal कह के (Artocarpus heterophyllus) भी संभोधित किया जाता है। जैकफ्रूट का वृक्ष काफी फैलावदार होता है और उसमें बहुत सी शाखाएं निकलती है जिस कारण ये बाद में काफी बड़ा पेड़ बन जाता है। Jackfruit Benefits in Hindi के साथ साथ हम जानेंगे आखिर ये है क्या और क्यों इतना लोकप्रिय है।

इसकी छाया में और भी फसल लगायी जा सकती है जैसे काली मिर्च, अदरक या इलाइची इत्यादि। इसका फल काफी पौष्टिक होता है, जब ये कच्चा होता है तब इसकी सब्ज़ी बनायीं जाती है।

ये वृक्ष लगभग हर प्रकार की मिटटी में उग जाता है इस की एक किस्म खजवा नाम की होती है। कटहल की खेती बीज से की जा सकती है और बाद में ग्राफ्टिंग की जाती है। फरवरी माह से मार्च और अक्टूबर, नवम्बर में हम इसकी ग्राफ्टिंग कर सकते हैं।

ये पेड़ 15 मीटर तक फ़ैल जाता है इसकी कुछ किस्में ऐसी होती हैं जिनके पौधे जो हैं वो छोटे रहते हैं लेकिन उनमें फल आना शुरू हो जाता है।

ज़्यादा शाखाएं पाने के लिए आप जुलाई महीने में इसमें गोबर की खाद अथवा एन पी के (NPK) से इसका उपजाउपन बढ़ा सकते हैं। जैसे जैसे पेड़ बड़ा होता जाएगा आप उसमें खाद की मात्रा बढ़ाये जा सकते हैं।

जब इसके फल कच्चे होते हैं तब इसको सब्ज़ी के रूप में तोड़ लिया जाता है लेकिन जब वह पक्क जाते हैं तो इनका रंग पीला हो जाता है। साथ ही साथ इनके जो कांटे होते हैं उनका नुकीलापन भी कम हो जाता है।

अगर हम कटहल यानी जैकफ्रूट को बीज से उगाते हैं तो ये पांच साल के बाद फ़ल देना शुरू करता है और अगर आप इसे ग्राफ्टिंग यानी कलम की मदद से उगाते हैं तो ये तीन से चार साल में आपको फ़ल देना शुरू कर देता है।

कटहल (जैकफ्रूट) के पौष्टिक गुण Jackfruit Nutrition Value

कटहल बहुत ही गुणकारी होता है इसके अंदर विटामिन A, विटामिन C, विटामिन B1, विटामिन B2, प्रोटीन, लोह की मात्रा, बहुत से मिनरल्स, फाइबर, कैल्शियम वगेरा इसमें अच्छी मात्रा में मौजूद होते हैं।

जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं और हमारे शरीर की आवश्यकतायों को पूरा करने में मदद करते हैं। हम तरह तरह के जो कैप्सूल खाते है उनसे अच्छा है की हफ्ते में दो बार कटहल की सब्ज़ी का इस्तेमाल ज़रूर करें।

इस लेख में हम Jackfruit Benefits In Hindi में आपके लिए विस्तार से बता रहे हैं तो इन्हे गौर से पढ़िए।

सबसे अच्छी बात इसमें कैलोरी न के बराबर होती है जिन लोगों को हृदय से सम्भदित कोई रोग होता है उनके लिए कटहल बहुत फायदेमंद है।

आप नीचे दिए गए चार्ट में विस्तार से इसके अंदर पाए जाने वाले पौष्टिक तत्वों को देख सकते हैं और ये भी देख सकते हैं की कितनी कितनी मात्रा में मौजूद हैं।

प्रति 100 ग्राम मात्रा में
कैलोरी95
टोटल फैट0.6 gm
सैचुरेटेड फैट0.2 gm
पोलीअन सैचुरेटेड फैट0.1 gm
मोनो सैचुरेटेड फैट0.2 gm
ट्रांस फैट0 gm
कोलेस्ट्रॉल0 mg
सोडियम2 mg
पोटाशियम448 mg
टोटल कार्बोहायड्रेट23 gm
डाइटरी फाइबर1.5 gm
शुगर19 gm
प्रोटीन1.7 gm
विटामिन A2%
विटामिन C22%
कैल्शियम2%
आयरन1%
मैग्नीशियम7%
विटामिन B615%

कटहल (जैकफ्रूट) के सबसे बेहतरीन फायदे Amazing Jackfruit Benefits

Kathal Jackfruit Benefits in hindi full info

कटहल में बहुत सारे पोषक तत्व काफी सही मात्रा में पाए जाते हैं, जैसे विटामिन A, विटामिन C, कैल्शियम, पोटाशियम और आयरन इत्यादि। तो आपको भी कटहल खाना बहुत पसंद है तो आज इसके फायदे के बारे में भी ज़रूर जानना चाहिए। तो आईये शुरू करते हैं कटहल के फायदे और गुण की सम्पूर्ण चर्चा।

पाचन संबधी बीमारियां दूर करने में सहायक

इसका सबसे पहला फायदा है की यह पाचन संबधी बीमारियां दूर करने के लिए कटहल बहुत कारगर माना जाता है। इसके लिए आपको कटहल कैसे लेना यह भी बताते है। सबसे पहले कटहल का गूदा लें और इसे कद्दूकस करके उबाल लेना है।

इस उबाले हुए कटहल के गूदे को अच्छे से जूस बना कर पी लेना है। इस जूस का सेवन अगर आप रोज़ाना करेंगे तो धीरे धीरे अपच जैसी समस्याओं से आपको छुटकारा मिल जायेगा।

यह एक बहुत ही अच्छा उपाय है पाचन संबधी बीमारियों को दूर करने के लिए। इस उपाए को ज़रूर करें आपको तीन चार दिन में ही इसका असर देखने को मिल जायेगा।

आँखों की तंदरुस्ती लिए लाभदायक 

कटहल में विटामिन A बहुत अच्छी मात्रा में होता है, इसकी मदद से हमारी आँखों की जितनी भी परेशानियां होंगी उन्हें दूर करने में कटहल हमारी मदद करता है।

साथ ही साथ अगर आपको नाईट ब्लाइंडनेस यानि अंधराता की शिकायत है तो यह इस परेशानी को दूर करने में भी मदद करता है। इसलिए जितना आप कटहल की सब्ज़ी या कटहल का सेवन कर सकते हैं रोज़ाना अपनी ज़िन्दगी में करना चाहिए।

हड्डियों को मज़बूत बनाये

इसका तीसरा फायदा यह है की यह हड्डियों को मज़बूत बनाता है क्यूंकि इसके अंदर कैल्शियम बहुत सही मात्रा में मिल जाता है। जो की हमारी हड्डियों के विकास और मज़बूती के लिए बहुत ज़रूरी है।

तो अगर आप चाहते हैं की आपकी हड्डियों का विकास सही से हो तो जैकफ्रूट को अपने आहार में ज़रूर शामिल करें।

मधुमेह रोगियों के लिए वरदान

मधुमेह रोगियों के लिए कटहल बहुत फायदेमंद होता है कटहल में बहुत कम Glycemic Index होता है खासकर कच्चे कटहल में। यही वजह है की इसे खाने से मधुमेह के मरीज़ों को ब्लड शुगर का स्तर समान्य रखने में मदद मिलती है। इसके इलावा इसमें घुलनशील फाइबर की मात्रा भी अधिक होती है जो आपके मधुमेह (Diabetes) होने के खतरे को कम करती है।

कैंसर से बचाने में सहायक

कई खोजें इसका दवा करती हैं की कटहल यानि जैकफ्रूट  कैंसर की कोशिकायों को नष्ट करने में मददगार साबित हुआ है। Jackfruit में आइसोफ्लेवोन, सैपोनिन जैसे फाइटोनुट्रिएंट्स होते हैं, जिनमें एंटी कैंसर, एंटीहाइपरटेंसिव, एंटी अल्सर, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीएजिंग गुण होते हैं।

मुंह के छाले ठीक कर आराम देता है

मुंह में बार बार छालों की शिकायत रहती है तो कटहल सबसे उत्तम ओषधि के रूप में प्रयोग किया जा सकता है। इसके लिए आपको कटहल की कच्ची पत्तियों मुंह में चबा कर थूक दें। ऐसा करने से मुंह के छालों से निजात मिल जाती है और दर्द में आराम मिलता है।

थाईरायड की समस्या को दूर करे

थाईरायड की समस्या को दूर करने में भी कटहल सबसे बढ़िया स्रोत माना गया है। इसमें मौजूद छोटे छोटे खनिज, कॉपर, थाईरायड की बीमारी को दूर करते हैं। क्यूंकि इसमें विटामिन B भी शामिल होता है जो स्वास्थ्य थाईरायड कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है और इसके लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

कटहल के बीज एवं फायदे Kathal Jackfruit Seed Benefits

कटहल के साथ साथ इसके बीज भी हमारे लिए काफी फायदेमंद होते हैं, इस भाग में Jackfruit Benefits के साथ साथ इसके बीजों के बारे में चर्चा कर रहे हैं, इसके बीजों में काफी सारा पोषण छुपा हुआ रहता है। इसके पोषक तत्वों की बात करें कार्बोहायड्रेट (Carbohydrates), विटामिन A, विटामिन C, और विटामिन B भी पाया जाता है कटहल का प्रयोग हम ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए भी कर सकते हैं।

  • जिन लोगों का ब्लड शुगर लेवल काफी तेज़ हो वह इसके बीज रोज़ खाएं साथ जिन्हें कब्ज़ की शिकायत हो उन्हें भी इसका सेवन करना चाहिए। जो लोग मोटापे के शिकार हैं वह भी इसका सेवन कर सकते हैं क्यूंकि इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है।
  • कटहल के बीज का चूरन बना कर इसमें शहद मिलाइये फिर उसे चेहरे पर लगाएं इससे चेहरे पर पड़े हुए दाग धब्बे मिटेंगे और आपका चेहरा साफ़ हो जायेगा।

यह भी पढ़ें :-

जैकफ्रूट से जुड़े कुछ आश्चर्यजनक तथ्य Amazing Facts of Jackfruit

इस लेख इस के इस भाग में बात करेंगे जैकफ्रूट यानी कटहल से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में।

जैकफ्रूट भारत के दक्षिण भागों, दक्षिण पूर्वी एशिया, वेस्ट इंडीज और फिलीपींस के अन्य हिस्सों में फ़ैल गया हुआ है।

जैकफ्रूट का पेड़ उष्ण कटिबंधीय निचले इलाकों में अच्छी तरह से उपलभ्द है और इसका फ़ल सबसे बड़ा पेड़ से पैदा हुआ फ़ल है। वज़न में 35 किलो ग्राम या 80 पाऊंड,90 सेंटीमीटर या 35 इंच लम्बाई में और 50 सेंटीमीटर या 20 इंच व्यास में ये मिल जाता है।

एक पके हुए कटहल को फ़ल के रूप में खाया जाता है लेकिन एक सब्ज़ी के रूप में बिना पके हुए का इस्तेमाल किया जाता है।

कटहल 80 प्रतिशत पानी का बना हुआ होता है।

इसे अक्सर मध्य और पूर्वी अफ्रीका में लगाया जाता है और यह ब्राज़ील में भी काफी लोकप्रिय है।

कटहल का पेड़ सलाना लगभग 100 से 200 फ़ल पैदा कर सकता है।

जैकफ्रूट का गूदा बहुत ही मीठा और सगंधित होता है। जिसे आम, केले, खरबूजे पपीते के स्वाद संयोजन के रूप में वर्णित किया गया है।

ये बहुत लम्बे समय तक जीवित रहने वाला पेड़ है और आम तौर पर 60 से 70 साल की उम्र के साथ।

जैकफ्रूट एक से अधिक फ़ल है जो सैंकड़ों से हज़ारों व्यक्तिगत फूलों से बना होता है।

Jackfruit Calories के मामले में सबसे अच्छा माना जाता है, खाद्य कटहल के गूदे के 100 ग्राम 95 कैलोरी प्रदान करते हैं, फ़ल, फ्रुक्टोज़ और सुक्रोज़ जैसे साधारण षरतरा से बने आसानी से पचाने योग्य गूदे से बना होता है।

एक कटहल के फ़ल में 100 या 500 से अधिक बीज हो सकते हैं।

आपको शायद नहीं पता होगा की कटहल बांग्लादेश का राष्ट्रीय फ़ल है।

भारत के पुरातात्विक निरकाशों से पता चलता है की 3000 हज़ार से 6000 हज़ार वर्ष पहले भारत में कटहल की खेती की गयी थी।

जैकफ्रूट अफ्रीका के कई देशों जैसे खाद्य सुरक्षा के साथ समस्याओं का सामना करने वाले देशों के लिए एक संभावित समाधान प्रदान करता है।

एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन C का एक अच्छा स्रोत है जो शरीर को संक्रामक एजेंटो और हानिकारक मुक्तकरणो के खिलाफ प्रतिरोध विकसित करने में मदद करता है जो शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव के कारण, कोशिका के D N A को नुक्सान पहुंचाते हैं और कैंसर कोशिका के उत्पादन की शुरुआत करते हैं।

पढ़ें अन्य तथ्य और Jackfruit Benefits in Hindi Wording

कटहल को फिलिपिनो में लंग्का और सिब्वानो में नागका कह के सम्भोधित किया जाता है। बिना पका फ़ल आमतौर पर नारियल के दूध में पकाया जाता है और चावल के साथ खाया जाता है।

श्रीलंका में जैकफ्रूट की लकड़ी महत्वपूर्ण है और इसे यूरोप में निर्यात किया जाता है। ये लकड़ी दीमक प्रतिरोधी होती है और फर्नीचर बनाने के लिए बेहतर है।

कटहल करा और तमिलनाडु के भारतीय राज्यों का राज्य फ़ल है और ये आम और केले साथ तमिलनाडु के तीन शुभ फलों में से एक है।

श्रीलंका और वियतनाम में जैकफ्रूट उध्योग स्थापित किये गए हैं जहाँ ये फ़ल आटा, नूडल्स, पापड़ और आइसक्रीम जैसे अन्य उत्पादों में संसाधित होता है।

गर्भावस्था के दौरान कटहल खाना चाहिए या नहीं ? Is Jackfruit (kathal) Safe During Pregnancy ?

1
पहला तथ्य है.
हाँ खाना चाहिए। जानिए क्यों ?

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को बहुत सारी चीज़ें खाने का मन करता है और बहुत सारी चीज़ें ऐसे होती हैं की उन्हें बिलकुल खाने का मन नहीं करता। लेकिन कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं जिन्हे हमें अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए।

इसके लिए आपको डॉक्टर भी सलाह देते हैं साथ ही साथ आपके घर की जो महिलाएं होती हैं, बड़े बुज़ुर्ग होते हैं वह भी सलाह देते हैं। दोस्तों गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को संतुलित आहार लेने की सलाह दी जाती हैं ताकि आपके गर्भ में जो शिशु है उसको सही पोषण मिल सके।

कई सब्ज़ियों में पौष्टिकता और गर्भावस्था में उनके सेवन को लेकर भी दुविधा बनी रहती है ऐसे में एक सवाल ये भी उठता है की गर्भावस्था में कटहल खाना चाहिए के नहीं।

ऐसे में एक सवाल यह भी उठता है की गर्भावस्था में कटहल खाना चाहिए या फिर नहीं ?

तो इस सवाल का जवाब है हाँ।

कटहल से कुछ ही महिलाओं को समस्या होने की सम्भावना हो सकती है लेकिन पोषण के मामले में कटहल बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। कटहल में सैचुरेटेड फैट, कोलेस्ट्रॉल और सोडियम अच्छी मात्रा में पाया जाता है। कटहल कई तरह के विटामिन तत्वों से बना होता है जिनमें विटामिन A और C मुख्य हैं।

कटहल का फ़ल रेशेदार होता है इसलिए पेट से जुडी समस्याओं से ग्रसित लोगों के लिए ये एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इस वजह से गर्भवती महिला को कटहल खाने का सुझाव दिया जाता है।

जैकफ्रूट विटामिन C का बढ़िया स्रोत है इसे खाने से मामूली इन्फेक्शन जो बाद में स्थिति को खराब कर सकते हैं उससे बचा जा सकता है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में मूड स्विंग की समस्या आम है ऐसे में कटहल का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। क्यूंकि यह मूड स्विंग को ठीक करने में कारगर माना गया है।

गर्भावस्था में कटहल यानी जैकफ्रूट खाने से शरीर में हार्मोन्स का संतुलन बना रहता है हार्मोन्स की गड़बड़ी आपके लिए भारी पड़ सकती है। गर्भवती महिला को हफ्ते में 500 ग्राम कटहल का सेवन ज़रूर करना चाहिए।

इसके चिप्स, पका हुआ फ़ल, गूदा और ग्रेवी वाली सब्ज़ियां इसका सबसे अच्छा विकल्प हैं। इसके इलावा गर्भ में विकसित हो रहे भ्रूण की सव्स्थ्य वृद्धि के लिए कटहल काफी फायदेमंद माना जाता है। ये बच्चे की आँखों की रौशनी के लिए भी अच्छा माना जाता है।

कटहल में जिंक, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन जैसे मिनरल्स पाए जाते हैं जो की जच्चा और बच्चा दोनों के लिए लाभदायक माने जाते हैं। कटहल एक रेशेदार फ़ल है जो महिलाओं में कब्ज़ और पाचन से सम्भंदित परेशानियों को दूर करने में मदद करता है। ये पेट में होने वाले संक्रमण से भी बचाता है।

2
दूसरा तथ्य है.
नहीं खाना चाहिए। जानिए क्यों ?

अब चर्चा करते हैं कटहल खाने से क्या क्या नुक्सान हो सकते हैं तो देखिये कटहल खाने से कोई खाने से कोई ख़ास नुक्सान नहीं होता। बहुत सारे लोगों को ऐसा लगता है की कटहल यानी जैकफ्रूट खाने से गर्भपात हो सकता है क्यूंकि कटहल की तासीर गर्म होती है। तो इसके लिए आपको यह करना चाहिए की आप पहले महीने से लेकर तीसरे महीने तक कटहल का सेवन ना करें।

वैसे दोस्तों अभी तक कटहल खाने से गर्भपात भी हो सकता है लेकिन इस बात का अभी तक कोई पुख्ता प्रमाण नहीं है। अभी तक इसका कोई वैज्ञानिक शोध प्रकाश में नहीं आया है।

इसलिए आप चाहें तो कटहल का सेवन कर सकते हैं कोई दिक्कत नहीं है लेकिन कोशिश करें की एक से लेकर तीन महीने तक ना खाएं। पर तीसरे महीने के बाद आप इसका सेवन कर सकते हैं।

बाकी अगर आप ज़यादा मात्रा में इसका सेवन करेंगे तो इससे आपको जो नुकसान हो सकता है वह यह है की कटहल में अन्य फलों की तरह चीनी की मात्रा अधिक होती है जिसके परिणाम सवरूप शुगर यानी मधुमेह के स्तर में वृद्धि हो सकती है। जो की गर्भावस्था के दौरान अच्छा संकेत नहीं है। खास कर तब जब गर्भवती महिला को गर्भ अवधि मधुमेह हो।

इसके इलावा अगर आप ज़्यादा मात्रा में इसका सेवन करेंगे तो आपको दस्त हो सकते हैं इसके इलावा आपको पेट से सम्बंधित और भी कुछ परेशानी हो सकती है। बहुत सारी महिलाओं को कटहल से एलेर्जी हो जाती है।

सावधानियां – गर्भावस्था में कटहल कैसे खाएं ?

अब बात करते हैं की गर्भावस्था के दौरान यदि आप जैकफ्रूट खाते हैं तो आपको क्या क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। सबसे पहले आप पूरी तरह पका हुआ कटहल ही चुने, आपको ताज़ी, भारी और गहरे रंग की जो कटहल होती है उसका ही खाने में लेना चाहिए क्यूंकि वह बिलकुल सही होता है और आपको Jackfruit Benefits देने में सहायक रहता है। ।

अगर आप तुरंत खाना चाहते हैं तो नरम काटों वाले पके हुए कटहल को चुने। आमतौर पर बाजार में कटी हुई कटहल ही मिलती है जिससे की आपको बचना चाहिए। क्यूंकि आमतौर पर कटहल बहुत बड़ा फ़ल होता है इसलिए हो सके तो छोटा फ़ल लें।

बाकी दोस्तों अगर आप कटहल यानी जैकफ्रूट को सिमित और सही मात्रा में खाते हैं तो आपकी सेहत को कोई नुक्सान नहीं होगा। बाकी सबसे अच्छा यही रहेगा की आप एक बार डॉक्टर से पूछ लें।

साधारण सी बात है की वह आपको मना नहीं करेंगे अगर मना करेंगे तो मत खाइएगा। और अगर मना नहीं करते तो बेशक आप आराम से कटहल खाये इससे आपको बहुत सारे पोषक तत्व मिलेंगे और आपके और आपके बच्चे के लिए बहुत फायदेमंद होगा।

कटहल (जैकफ्रूट) का सेवन कैसे करें ? How to Eat Jackfruit ?

जैकफ्रूट का कई तरीकों से सेवन किया जा सकता है जिसमें कच्चा फ़ल या पका हुआ फ़ल शामिल हैं। कटहल की सब्ज़ी बनाकर भी खायी जा सकती है, कटहल का गूदा काफी स्वादिष्ट होता है। इसलिए इसे उबाल कर इसमें सिर्फ नमक डालकर भी इसे खाया जा सकता है। गर्भावस्था के दौरान Jackfruit Benefits लेने के लिए के चिप्स बना कर भी इसे खाया जा सकता है। लेकिन चिप्स तले हुए होने की वजह से ज़यादा नहीं खाये जा सकते, इन्हे सिमित मात्रा में ही खाना चाहिए।

कटहल के स्लाइस के ऊपर कस्सा हुआ नारियल डालकर केले और शहद के साथ स्वादिष्ट व्यंजन के तौर पर भी खा सकते हैं। इसे सब्ज़ी बना कर खा सकते हैं, साधारण पका हुआ कटहल खा सकते हैं तो कटहल कैसे भी खाइये जैसे आपको अच्छा लगे।

कटहल से होने वाले नुक्सान Jackfruit Side Effects

वैसे तो Jackfruit Benefits की सूचि बहुत लम्बी है पर इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हैं ! यह कटहल विटामिन्स, एंटीऑक्सीडेंट्स, मिनरल्स से भरपूर हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन कई लोगों को इसका सेवन नुक्सान पहुंचा सकता है। आईये विस्तार से जानते हैं किन लोगों को कटहल से दूरी बना कर रखनी चाहिए।

  • फाइबर से भरपूर कटहल वैसे तो आँतों की गंदगी को साफ़ करने में मदद करता है लेकिन जिन लोगों को पाचन सम्भंदित परेशानी हो उन्हें कटहल का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके सेवन से उनके पाचन पर उल्टा असर पड़ सकता है।
  • इसके इलावा कटहल का अधिक सेवन करना मधुमेह रोगियों में ब्लड शुगर के स्तर को प्रभावित कर देता है। इसलिए डायबटीस से पीड़ित व्यक्तियों को कटहल के सेवन से परहेज़ करना चाहिए। जबकि दोस्तों आमतौर पर यह फ़ल मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा माना जाता है लेकिन इसमें गुलुकोस की मात्रा अधिक होने के कारण ये फ़ल शरीर में गुलुकोस के स्तर को बड़ा सकता है। इसीलिए मधुमेह रोगियों को सिमित मात्रा में कटहल खाना चाहिए।

कटहल का निष्कर्ष – Conclusion On Jackfruit Benefits

दोस्तों कटहल के बारे में दी गयी यह सारी जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। आप एक बार ज़रूर इसे इस्तेमाल में लाएं इससे काफी भयानक रोगों से बचा जा सकता है। कटहल आपके शरीर को सही मात्रा में पोषक प्रदान करता है जो हमारे शरीर के लिए अति आवश्यक होते हैं।

तो उम्मीद करते हैं आपको ये लेख Jackfruit Benefits काफी पसंद आया होगा, हो सके तो इस लेख को फेसबुक, व्हाट्सप्प पर अपने मित्रों, रिश्तेदारों के साथ अवश्य साँझा करें ताकि वह भी इसे पढ़ कर लाभ ले सकें। इससे हमें thehindiguide.com टीम को और प्रेरणा मिलेगी ताकि आपको ऐसे ऐसे अच्छे अच्छे और स्वास्थ्य संबधी जानकारियां आपके साथ बांटे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *