Ragi in Hindi रागी को खाने के फायदे, रागी का उपयोग

Ragi in Hindi रागी को खाने के फायदे, रागी का उपयोग : नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप आशा है, ठीक होंगे The Hindi Guide Blog में आपका बहुत-बहुत स्वागत है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी देने वाले हैं रागी के बारे में। हम अक्सर अपने जीवन में पता नहीं कितनी सारी चीजों का सेवन करते हैं बेसन, गेहूं और चावल का आटा, मैदा, मक्की का आटा, किनुआ और भी बहुत सारे अनाज होते हैं उनको अपने खाने में मिलाकर खाते हैं। उन्हीं में से एक चीज रागी होती है, मगर बहुत लोगों को यह नहीं पता होता है रागी क्या है? रागी खाने के फायदे क्या है और रागी का इस्तेमाल कहां कहां किया जाता है

इस को फिंगर मिलेट Finger Millet और नाचनी के नाम से भी जाना जाता है। इसके छोटे छोटे दाने पोषण से भरपूर होते हैं जो हमारे काफी ज्यादा काम आते हैं, हमारी सेहत के लिए काफी ज्यादा मददगार साबित होते हैं।

आज कुछ लोग रागी के फायदे के बारे में तो जानते ही है मगर उनको सही तरीके से जानकारी भी नहीं है और ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी नहीं है। सिर्फ इतना पता है कि फायदा होता है, मगर क्या फायदे होते हैं और कैसे फायदे होते हैं, यह वह लोग नहीं जानते हैं। अगर आप भी उन्हीं लोगों में से हैं तो हमारे इस पोस्ट पर अंत तक बने रहिए आज हम आपको नाचने के बारे में यानी कि रागी के बारे में पूरी पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। Uses of Ragi in Hindi

रागी क्या है कैसी दिखाई देती है –  What is Ragi in Hindi

यह आपको दो से तीन कलर में देखने को मिल जाता है और इसकी बनावट राई की जैसी होती है। यानी कि सरसों जिसको हम कहते हैं उसके जैसी होती है। अगर हम इसके रंग के बारे में बात करें तो इसका रंग फीका भूरा होता है, गहरा भूरा होता है और कुछ कुछ तो गहरे नारंगी कलर के भी दिखाई पड़ते हैं, मगर वह बहुत ज्यादा चॉकलेटी होते हैं, जिसकी वजह से वह नारंगी नहीं लगते और कुछ-कुछ तो इसमें सफेद दाने भी मौजूद होते हैं।

रागी में कौन से पोषक तत्व होते हैं – What Good impurities does Ragi contains

वैसे तो रागी बहुत सारे गुणों से भरा हुआ है रागी के अंदर कम से कम 10 से ज्यादा पोषक तत्व शामिल है। इसके अंदर सबसे ज्यादा फास्फोरस, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, कैल्शियम और प्रोटीन फाइबर पाया जाता है। उसके इलावा इसके अंदर और भी कई सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं जैसे कि जिंक, सोडियम, विटामिन B1, विटामिन B2, विटामिन B3, ईथर के अर्क, मिथोनाइन अमीनो एसिड, आयोडीन, आयरन, कैरोटीन भी पाया जाता है।

रागी का पौधा कैसा होता है और उसका उत्पादन कहां कहां होता है

यह पौधा शुष्क मौसम में उगाया जाता है और यह लगभग 1 मीटर की ऊंचाई तक होता है रागी का पौधा 4 किस्मों का होता है हर किसम का पौधा अपनी अलग अलग छवि बताता है आइए जान लेते हैं राखी के पौधे के बारे में और जानकारी और उसके प्रकार के बारे में। रागी के पौधे चार किस्म के होते हैं जिनका नाम आपको हम बता रहे हैं OUAT-2, OEB-10, GPU 45, VL149

रागी के पौधे के प्रकार – Types of Ragi Plants in Hindi

ragi benefits in hindi

झुलसन की बीमारी का तो आपको पता ही होगा और इस पौधे का उपयोग झुलसन की बीमारी को दूर करने के लिए भी किया जाता है। रागी की GPU – Wइस कसम के पौधे हरे होते हैं और उनकी डालियां झुकी हुई होती है यानी थोड़ी सी मुड़ी हुई होती है और यह जल्दी पककर तैयार भी हो जाते हैं। OEB -10 किसम के पौधे ऊंचे होते हैं इनकी पत्तियां चौड़ी होती है और यह हल्के हरे रंग के होते हैं।

रागी के VL149 किसम के पौधे में वालियां हल्के बैंगनी रंग की होती है और जडें रंगीन होती है। इस किस्म के रागी के पौधों का उत्पादन मैदानी और पठारी पर किया जाता है। रागी की किचन में एक और आने वाला पौधा है वह है। OUAT-2 इसको हिंदी में शोरबा भी कहा जाता है और इसकी लंबाई 1 मीटर वाले ऊंचाई के पौधे में 7 से 8 सेंटीमीटर तक की होती है। यानी कि इसकी जो फलियां होती है और 7 से 8 सेंटीमीटर की लंबाई में होती है।

रागी कहां कहां उत्पादित होती है – Ragi Production in India

असल में रागी एशिया और अफ्रीका के सूखे क्षेत्रों में पाया जाता है और 4000 वर्षों पहले यह भारत में आया था। अगर हम भारत की बात करें तो भारत में भी काफी अच्छी गाती मात्रा में रागी का उत्पादन किया जाता है। इसलिए भारत भी राखी का सबसे बड़ा निर्यात करने वाले देशों में से एक है। रागी भारत के कर्नाटक राज्य में सबसे ज्यादा उत्पादित किया जाता है। उसी के साथ साथ कर्नाटक हमारे भारत का सबसे बड़ा रागी उत्पादक है।

सिर्फ इतना ही नहीं भारत में और भी जगह है। जहां पर रागी का उत्पादन बड़ी मात्रा में किया जाता है और कुछ जगह पर कम भी होता है, मगर इन्हीं राज्यों में रागी का उत्पादन होता है। जैसे कि तमिलनाडु, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, सिक्किम और उत्तराखंड यहां पर रागी का उत्पादन किया जाता है। और यहीं से सभी राज्यों तक रागी पहुंचाई जाती है, यह सारे राज्य भी अच्छे खासे शुष्क इलाके में आ जाते हैं इसलिए यहां पर आगे का उत्पादन किया जाता है।

रागी का उपयोग – Uses of Ragi in Hindi

Uses of Ragi in Hindi : खाने की चीजों में रागी का उपयोग बहुत ही प्रकारों में किया जाता है। हम सब लोग जानते हैं कि हमारे घर में हमारी माता बहने बहुत सारी चीजें मिलावट करके बनाती है जिसकी अंदर रागी का भी बहुत बड़ा हाथ होता है। तो आइए जानते हैं कि रागीसे हम क्या क्या बनी हुई चीजें खा लेते हैं और हमें पता भी नहीं चलता कि उसके अंदर रागी मौजूद है। रागी कस इस्तेमाल कहाँ होता है?

1. पापड़

हम अपनी रोजाना जिंदगी में पापड़ का सेवन तो करते ही हैं और क्या आप जानते हैं कि रागी से बने हुए पापड़ भी आपको मिल जाते हैं। हालांकि आपको सुनकर बड़ा अजीब लग रहा होगा मगर यह बात बिल्कुल सही है। आप इसको किराना माल दुकान से भी ले सकते हैं और अगर आपको ऑनलाइन मंगवाना है तब आप इसको ऑनलाइन भी आर्डर कर सकते हैं। यह पापड़ खाने में काफी ज्यादा स्वादिष्ट होते हैं।

2. रोटी

कुछ लोग मिश्रण रोटी बनाते हैं उसकी अंदर नाचनी का भी इस्तेमाल करते हैं और यह नाचनी हमारे सेहत के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होती है, तो इसमें जरा भी यह पता नहीं चलता है कि नाचनी मिलाई हुई है। क्योंकि उसका स्वाद कड़वा नहीं होता है, अगर आपको जानना है कि रोटी में नाचनी मिलाई हुई है या नहीं मिलाई हुई। तब आपको सिर्फ एक बात का ध्यान रखना है अगर रोटी भूरे रंग की बन रही है, तब समझ लीजिए कि उसके अंदर रागी का इस्तेमाल किया गया है।

3. इडली डोसा, लड्डू

क्या आप जानते हैं रागी से लड्डू भी बनते हैं, पिनिया बनती है और इसका इस्तेमाल इडली डोसा बनाने के लिए भी किया जाता है। अगर आपको नहीं पता होगा तो आप गूगल में थोड़ा सा सर्च करके देख सकते हैं तब आपको अलग-अलग प्रकार की रेसिपीज देखने को मिलेंगे, जहां पर इसका प्रयोग किया जाता है। बूढ़े बच्चे और जवानों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होता है। मददगार होता है और यह बहुत स्वादिष्ट बनते हैं। हालांकि आपको थोड़े महंगे पड़ेंगे मगर हां इनके फायदे बहुत हैं।

ये भी पढ़ें :-

4. बिस्किट, हलवा

हम लोग अनेक प्रकार की बिस्किट खाते हैं मगर हम बिस्किट में रागिनी मौजूद होता है। सिर्फ बिस्किट ही नहीं हम जो कुकीज़ भी खाते हैं कुकीज में भी रागी बहुत ज्यादा मौजूद होता है। हम अक्सर सोचते हैं कि बिस्किट भूरे भूरे रंग की क्यों होते हैं। वह तो पकने के बाद तो होते ही है उसी के साथ उसके अंदर रागी भी मौजूद होता है। तो रागी का रंग भूरा होता है इसलिए वह भी बुरे हो जाते हैं और रागी का हलवा भी बनाया जाता है जो भी बहुत स्वादिष्ट बनता है।

रागी को खाने के फायदे – Benefits of Ragi in Hindi

जैसे कि हमें रागी के उपयोग के बारे में जाना वैसे ही हम अभी रागी के खाने के फायदे के बारे में भी पूरी जानकारी जानने वाले हैं। इसके अंदर हम आपको बताएंगे कि रागी खाने के क्या फायदे हो सकते हैं और उस को विस्तार में बताएंगे कि किस-किस प्रकार से इसके फायदे हमें होते हैं। बहुत से लोगों को नहीं पता है कि रागी के फायदे किस प्रकार से होते हैं तो आइए जानते हैं विस्तार से benefits of ragi रागी के फायदे के बारे में।

1. पाचन तंत्र मजबूत बनाता है – Make Digestive System Strong With Ragi in Hindi

रागी एक तरीके का फाइबर तत्व है इसके अंदर काफी ज्यादा फाइबर पाया जाता है। क्योंकि इसके छिलके काफी मजबूत होते हैं जिसकी वजह से हमें काफी मात्रा में फायदा मिल जाता है। फाइबर खाने से हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम यानी कि पाचन तंत्र काफी ज्यादा मजबूत हो जाता है और हमें कब जैसी बीमारियों से छुटकारा मिलता है। इससे हमें पेट से जुड़ी हुई बीमारियां नहीं होती है गैस होना, पाद आना और पेट दुखना पेट की सफाई ना होना।

2. रक्तचाप को दूर करने में फायदेमंद है

हम सब लोग जानते हैं कि हमारा खून पतला होता है। मगर हमारी गलतियों की वजह से हम ध्यान नहीं रख पाते हैं हमारी सेहत का, तो उसके अंदर खून के गड्ढे होने लग जाते हैं clots बनने लग जाती है। और उन clots को निकालना बहुत ज्यादा मुश्किल हो जाता है, यहां तक कि बाद ऑपरेशन तक भी पहुंच जाती है। कुछ लोग के पास इतने पैसे नहीं होते हैं तो वह दवाइयों से काम चलाते हैं। मगर दवाइयां भी उनके ज्यादा असर नहीं आती है अगर आपको यह बीमारी ना हो इसलिए, आप रागी खाने का प्रयोग करेंगे तब बहुत ज्यादा बेहतर होगा। क्योंकि यह आपको इस मुश्किल से जरूर बचाकर रखेगा।

3. दूध बढ़ाने में मददगार है

हम सब लोग जानते हैं जब बच्चा पैदा होता है तब उसको दूध पीना कितना ज्यादा जरूरी हो जाता है। ऐसी स्थिति में अगर मांं के स्तन में दूध पीना हो तो बच्चा क्या पिएगा, उसको कहां से पोषण तत्व मिलेंगे। मां के दूध का पोषण बढ़ाने के लिए और दूध को बढ़ाने के लिये रागी खिलाना बहुत ज्यादा जरूरी होता है। इसमें बहुत सारा कैल्शियम होता है और यह बहुत ज्यादा मदद करता है। मां के दूध में बढ़ावा करने के लिए प्रेगनेंसी में खाना बहुत ज्यादा जरूरी होता है। उसी के साथ साथ एनर्जी देता है और बच्चा पैदा होने के बाद जितना शरीर का नुकसान हुआ होता है, वह सारे नुकसान की भरपाई भी कर देता है।

4. कैल्शियम से भरपूर है –

जैसे कि हमने पहले आपको रागी के पोषक तत्व के बारे में जानकारी दी है उसमें हमने आपको बताया था कि राखी के अंदर कैल्शियम भी मौजूद है। रागी कैल्शियम से भरपूर है इससे हड्डियां भी काफी ज्यादा मजबूत होती हैं। इनको बच्चे बूढ़े जवान सबको दे सकते हो और इससे काफी ज्यादा फायदा हमारे शरीर को होता है। जिन लोगों के अंदर कैल्शियम की कमी होती है उनको रागी जरूर खाना चाहिए। क्योंकि दवाइयां लेने से अच्छा है, अगर आप रागी खाओगे तो ज्यादा बेहतर रहेगा क्योंकि ना केवल सिर्फ आपको यहां कल शाम मिल रहा है। कैल्शियम के इलावा भी आपको बहुत सारे गुण मिल रहे हैं, अगर सिर्फ आप कैल्शियम की दवाई खाओगे तो सिर्फ कैल्शियम ही आपको मिलेगा बाकी तत्व नहीं मिलेंगे तो इसलिए आपको रागी खाना चाहिए।

5. मधुमेह की बीमारी से दूर रखता है

हम सब लोग जानते हैं कि डायबिटीज बहुत से लोगों को हो जाती है। कुछ लोगों को तो इसीलिए होती क्योंकि वह हमेशा टेंशन में रहते हैं और कुछ लोग तो इसीलिए डायबिटीज का शिकार बन जाते हैं क्योंकि वह लोग मीठा खाते हैं। अगर इन सब की अगर आप को कंट्रोल करना है तब रागी का खाना बहुत ज्यादा जरूरी है। यह आपको मधुमेह की बीमारी यानी कि डायबिटीज से बचा कर रखता है। हर किसी के अंदर इतनी क्षमता नहीं होती है कि वह डायबिटीज होने के बाद करेला खाए, और परहेज कर सके। अगर आप नहीं चाहते हो कि आपकी स्थिति ऐसी हो जाए तब आपको रागी का सेवन करना बहुत ज्यादा जरूरी है।

तो दोस्तों यह थी Ragi in Hindi : रागी को खाने के फायदे, रागी का उपयोग के बारे  में पूरी जानकारी। आशा है, आपको यह जानकारी पसंद भी आई होगी। उम्मीद करते हैं आप राखी के फायदे और उपयोग के बारे में जानकर जरूर इन हमारे बताए हुए टिप को अपनाएंगे। ताकि आपको भी इसका बहुत लाभ हो सके।

और अगर आपको हमारी आज की यह पोस्ट पसंद आई है तो इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। आपका हमारी आज किया पोस्ट को पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment