Jal Pariyon Ka Rahasya क्या है – जलपरियों की रहस्मयी दुनिया देखें

हैल्लो दोस्तों, आज हम बात करेंगे Jal Pariyon Ka Rahasya क्या है। और ये भी जानेंगे की Jal Pariyon की रहस्मयी दुनिया का सच क्या है। दुनिया मे बहुत से जीव जन्तु, जानवर इस धरती पर थे जिन्हे सिर्फ इतिहास मे रखा गया है, आज इस दुनिया मे बहुत से ऐसी बाते है जिन्हे हम नही जानते।

आज तक सिर्फ उनके बारे मे सुना है। आज से  कही सालो पहले जलपरी भी अस्तित्व हुआ करती थी, जिन्हे सिर्फ हम कहानीयों मे ही सुनते थे।

हमने बचपन मे लगभग जलपरियों के बारे मे या तो टीवी मे कार्टून की तरह देखा है या अपने बड़ो से जलपरियों  की कहानियां सुनी हैं।

जिससे हमारे मन मे हमेशा यही बात रहती है की क्या है Jal Pariyon Ka Rahasya, क्या जलपरियों को देखा गया है, जलपारियाँ किस तरह की दिखती है।

इस बात की लिए बहुत से लोगो ने अपने तर्क मे बहुत सी रहस्यमय बातों को बताया है, जिससे Jal Pariyon Ka Rahasya के बारे मे पता चलता है।

मैं उम्मीद करता हूँ की इस लेख को पढ़ने के बाद आपको पता चल जाएगा की जलपरी का रहस्य क्या है। तो चलिए अब विस्तार से जानते है जलपरी और इसके रहस्य क्या हैं।

Jalpari क्या होती है ?

ये जलपरी एक ऐसी मछ्ली है जिसका शरीर का आधा भाग इंसान का होता है, और आधा भाग मछ्ली का होता है।

ये अन्य मछलियों की तरह अपना जीवन व्यापन पानी में करती हैं। जलपरी का सिर और धड़ इंसान की तरह यानि आदमी या औरत की जैसे होता है।

जलपरी का धड़ से नीचे का पूरा हिस्सा मछ्ली की तरह होताहै। यह इन्हे तैरने मे मदद करता है।

Jalpari के बारे मे दिलचस्प बातें और तथ्य

आज तक हमने सिर्फ जलपरी के बारे मे सुना है, परंतु कभी देखा नही है,परंतु बहुत  बार जलपरी होने की कल्पना की जाती है। Jal Pariyon Ka Rahasya को दुनिया मे लगभग सभी पुरानी लोक कथाओ से भी जोड़ा गया है।

पुरानी लोक कथाओ के अनुसार जलपरियों को यूरोप, अफ्रीका व एशिया मे पाया जाना बताया है।

पुरानी लोक कथाओ मे बताया गया है की जलपरियों को मानव की तरह ही माना जाता है। इस बात का पता यूरोप की लोक कथाओ से  साबित किया गया था।

माना जाता है की जलपारियों के पास कुछ जादुई शक्तिया भी पायी जाती थी, जो इन्हे दूसरी मछलियो से अलग बनाती है।

जलपारियों को संगीत से बहुत  लगाव होता है। जलपारियों के शरीर मे कोई आत्मा नही होती थी यह एक नश्वर प्राणी माने जाते है।

दुनिया मे बहुत से खोज के बाद अभी तक यह पता नही लगाया जा सका है की जलपरियों का वजूद आज भी  इस दुनिया मे है या नही परंतु माना जाता है की जल परिया होती है।

ये भी पढ़ें :-

यहाँ पढ़ें Jal Pariyon Ka Rahasya क्या है

दुनिया मे कुछ खबरों मे इस बात का दावा किया गया है, की है Jalpari को हाल की कुछ साल मे देखा गया है, कही हद तक इस बात को गलत भी बताया गया है, परंतु “Jal Pariyon Ka Rahasya” के बारे मे बहुत सी बताए रहस्य के रूपमी सामने आई है।

चलिए अब जानते हैं Jalpari Ka Rahasya Hindi Me विस्तार से। 2009 मे इस बात का दावा किया गया है की Mermaid ने इज़राइल के समुंदरी तट पर जलपरी को देखा गया था। माना जाता है की जलपरी तक पर लोगो का मनोरंजन करती थी, फिर शाम होने पर गायब भी हो जाती थी।

कुछ बातों ने दुनिया मे इस बात को साबित किया है क्यूकी जलपरी को देखने वाले पहले  व्यक्ति श्लोमो कोहेन ने कहा है की एक महिला जो रेतो मे लिपटी हुई थी, व धूप का आनंद ली रही थी। जब लोगो ने उसके पास जाना चाहा तो वह डर कर पानी के अंदर चली गयी। इस बात सब हेरान थे की उस महिला की पूछ थी।

कुछ खबरों मे 2016 मे भी एक खबर का पता चला है की भारत मे उत्तर प्रदेश मे एक बच्चे का जन्म हुआ जिसे एक दम जलपरी की तरह था, परंतु यह बच्चा कुछ समय ही जीवित रहा। इस बच्चे के हाथ पानी मे रहने वाले जीव की तरह  जालीदार थे।

इस तरह की सभी बातों को वैज्ञानिक ने अनदेखा कर दिया उनका मानना है की जलपरी जैसा कुछ नही है, यह सिर्फ इंसान की कल्पना है जिसे वह जलपरी मान रहे है। परंतु इतिहास की सभी बातों ने Jal Pariyon Ka Rahasya को सच बताया है। इस बात को साबित भी किया है की जलपरियाँ इस दुनिया मे थी।

Jal Pariyon Ka Rahasya और कहानियाँ हिंदी में

  • जलपरियों की पहली कहानी

जलपरियों की कहानियो मे असायरियन मे पाई जाने वाली जलपरियों की कहानी शामिल है।

इस कहानी मे बताया गया है, की अटार्गेंटिस जो असायरियन और रानी सेमिरमिस की माँ थी, जो एक गाय व बकरी चराने वाले से बहुत प्यार करती थी, परंतु बकरी चराने वाले को मार जाता है।

इस बात से वह शर्मिंदा हो गयी। जिसके कारण अटार्गेंटिस ने पानी मे छलांग लगा दी।

अटार्गेंटिस ने एक मछ्ली का रूप ले लिया। इसका कारण अटार्गेंटिस की सुंदरता थी, परंतु पानी मे कूदने के बाद भी पानी भी उसकी सुंदरता नही छिपा सका। जिसके कारण उसने जलपरी मे अपना रूप ले लिया है।

  • जलपरियों की दूसरी कहानी

ग्रीक की एक बहुत प्रसिद्ध कहानी मे अलेक्जेंडर की बहन के जलपरी बनने की कहानी भी सामने आती है, जो जलपरी की अस्तित्व पर बनाई गयी थी। इस जलपरी की कहानी मे अलेक्जेंडर की बहन ने मरने की बाद जलपरी का रूप ली लिया।

इस कहानी मे बताया गया है, की समुन्द्र मे अलेक्जेंडर की बहन जब भी किसी नाविक को जाते हुए देखती है तो सिर्फ एक ही बात पूछती है की क्या अलेक्जेंडर जिंदा है। इस बात का जवाब नाविक को देना पड़ता था की अलेक्जेंडर जिंदा है और दुनिया पर राज कर रहा है।

यह बात सुन कर अलेक्जेंडर की बहन खुश होती है, समुन्द्र के पानी को शांत कर देती जिसके बाद जहाज को जाने का रास्ता मिलता है। यदि कोई दूसरा जवाब देता है, तो उसका जहाज समुन्द्र मे डुबो देती है। इस कहानी ने ग्रीक मे बहुत लोकप्रियता हासिल की थी।

क्या Jalpariyan होती है ?

Jal Pariyon Ka Rahasya

कई शास्त्रो मे भी बताया गया  है की जलपरियां होती है, जिसमे से महाभारत व रामायण एक है। बहुत सी कथाओ मे जलपारियो का जिक्र  किया गया है, महाभारत के  कुछ अध्यायों मे भी जलपरी का जिक्र किया गया है, जिसमे से रावण की बेटी का जलपरी होना बताया गया है।
रामायण कथा की अनुसार रावण की बेटी स्वर्णमछा के बारे मे बताया गया है। यह एक सोने की मछ्ली थी, जिसने रावण के लिए राम सेतु की पत्थरों को चुराने का जिक्र किया है। महाभारत जैसे पोराणिक लोक कथा मे अर्जुन की पत्नी को भी जलपरी की रूप मे बताया गया है।

यहा तक की भगवान विष्णु को मछ्ली रूप धारण करने की बात भी बताई गयी है जिससे यह पता चलता है की इस दुनिया मे जलपरी का अस्तित्व था, क्यूकी वर्तमान मे जलपरियो के बारे मे पता नही चल पाया है।

कई सदियो से माना जाता है की जलपरियो ने नाविकों को बहुत  प्रभावित किया है। क्यूकी जलपरियो को समुन्द्र मे आये तूफान की कारण जहाजो की डूबने जैसी घटना के साथ जोड़ा गया है।

जलपरियां सच में होती हैं :-

दुनिया मे बहुत से ऐसे भी लोग थे जिन्होने जलपरियों को देखा है, जिसमे से कुछ  व्यक्तियों के बारे मे बताया गया है चलिये जानते है।

सन 1493 मे क्रिस्टोफर कोलंबस ने डोमिनिक रिपब्लिकन के पास समुन्द्र की यात्रा करते समय इस बात की बारे बताया है। कोलंबस ने यह बात अपने के लेख मे लिख  कर बताई थी। जी हाँ उन्होंने बिलकुल सच बताया था Jalpari Sach Mein Hoti Hai और उनका पक्का सबूत वह खुद हैं। उन्होने बताया है की उनकी यात्रा के  समय उन्हे मानव रूपी आखो वाला जन्तु देखा था। कुछ वैज्ञानिकों ने इस तर्क मे कहा है की वह मेनितीस  थी।

कई पुरानी चित्रकला से भी इस बता का पता चलता है की जलपरिया थी, क्यूकी आज के कई साल पहले लोगो के पास शिक्षा का कोई नामो निशान नही था वह अपनी बातो को चित्रकला माध्यम से बताते थे। मानव का जलपारियो का शिकार करना भी कुछ चित्रकला मे बताया गया है। शिकार की कारण जलपरिया मानव से छुपा करती थी।

डॉ जे. ग्रिफिन के अनुसार जलपरी थी

जुलाई 1842 न्यूयॉर्क ने रहने वाले ब्रिटिश द सीएम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के मेंबर डॉ जे. ग्रिफिन ने यह बात साबित कर दी थी की जलपरिया होती है। डॉ जे. ग्रिफिन अपने पास जलपरी होने की बात का दावा किया था। जब यह  बात न्यूज़ मे आयी तब इस बात का पता चलगया था की इस दुनिया मे जलपरिया सच मे थी।

जब इस बात की खबर का पता चला तो सर्कस  वालो ने जलपरी को मुह मांगी कीमत पर मांगा। परंतु डॉ जे. ग्रिफिन ने बेचने से मना कर दिया। इस जलपरी को म्यूजियम मे रख दिया गया।

Jal Pariyon Ka Rahasya पौराणिक कथाओं में

दुनिया की पौराणिक कथाओं मे शामिल होने वाली रामायण व महाभारत इस बात का सबूत है की जलपरियाँ सच मे थी। थाई और कंबोडियन संस्करणों मे इस बात का उल्लेख किया गया है।

इन लेखो मे से रामायण मे रावण की पुत्री सुवर्णमच्छा, महाभारत मे अर्जुन की पत्नी उलूपी , व भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार भी शामील है जिसका नीचे का शरीर मछ्ली की तरह था व ऊपर का शरीर इंसान की तरह था। इन कुछ बातों से इस  बात का पता चलता है, की इस्स दुनिया सच मे जल परिया थी।

निष्कर्ष

दुनिया मे जिस तरह Jal Pariyon Ka Rahasya और इसका का चित्रण किया गया है, यह एक वास्तविक रूप के तौर पर हमने बचपन सुना है व कार्टून में देखा भी है। इस दुनिया मे ऐसे जीवों को अब नही देखा गया है। माना जाता है की यह (जलपरियाँ ) पूरी तरह से लुप्त हो चुकी है। दुनिया की बेहतरीन जलपरी आज हर कोई देखना चाहेगा परंतु  अहसोस है की इस दुनिया मे इनको नही बचाया जा सका।

हम उम्मीद करते है की हमारे इस लेख जलपरियों का रहस्य मे आपको दुनिया  के बेहतरीन रहस्य के बारे मे जाकर अच्छा लगा होगा। आप इस लेख को अपने मित्रों और रिश्तेदारों के साथ जरूर करें जिससे हमें प्रेरणा मिलेगी आपके लिए और अच्छी अच्छी जानकारी जुटाने के लिए।

Leave a Comment